logoSign upLog in
Mithilesh Maurya

Mithilesh Maurya

बड़े बुजुर्गों की ऊंगलियों में कोई ताकत तो ना थी, मगर जब मेरा सर झुका, तो सर पे रखे कॉँपते हाथों ने, ज़माने भर की दौलत दे दी ......!!!

Relevant