logoSign upLog in
NIKHIL KAPOOR

NIKHIL KAPOOR

पहले के ज़माने में अगर फिल्म डायरेक्टर चाहिए होता था तो उसकी संवेदनाएं जिंदिगी का अनुभव और फिल्मों का अनुभव देखा जाता था ...आज कल देखतें हैं की वो BE/ IIT या MBA है की नहीं ? बाकी चीज़ें जाएँ भाड में.... भगवन का शुक्र है की ऐसा सिर्फ कॉर्पोरेट सेक्टर में है....फिल्म इंडस्ट्री में ये मूर्खता पूर्ण पैमाने नहीं हैं.. पिछले दिनों एक कॉर्पोरेट को फिल्म्स डिवीज़न के हेड की ज़रुरत थी ...उनकी शर्त थी की वो मैकेनिकल इंजिनियर हो.....हा हा हा इन उल्लू के पट्ठों को कोई बताये कि फिल्म का कैमरामैन या एडिटर भी इंजीनियर नहीं होते.... that's why most of the t.v. channels and other such 'corporate companies , have appointed good for nothing people at important posts. They don't have the ability to judge talented people.

Relevant