Hans Dholakia en beBee Poetry, Lifestyle, beBee in English Founder-President • Holistic Health & Luminous Learning Inc. 21/9/2016 · 1 min de lectura · +500

WHY BLAME THE BARTENDER ? A poem on misuse of human free will : बदनाम क्यों साक़ी है ?

WHY BLAME THE BARTENDER  ?   A poem on misuse of human free will :  बदनाम क्यों साक़ी है ?



How are they to love us whose hearts know us not,
Why and how are they to confess love to a stranger ?


Why blame the lovers, love itself is fake in this world,
So naive to come with open hearts where all cheat each other !


They, unknown even to themselves, can never know us,
How silly of us, indeed, to hope they would love us !


So I ventured to transit from love and poesy to the world of Spirit
To escape a make-believe world, for the lone land to seek and visit !


The turmoil of the breath was actually the tumult of desires,
Now that the breath is fatigued, only one desire survives -


To meet,ask the Maker why being True, He made a world so false -
In a place of countless doubts, this one question in me thrives !


But a silent whisper floats in me, as quietly from within He replies,                                     'Why ask Me, son, you spoiled the game, ask who falsehood drives ?


'I prepared for you a drink nectarine, with My love true and tender,
You all insisted, fought for poison, why now blame Me, the Bartender' ?


- Hans Dholakia 

www.hansyoga.com


WHY BLAME THE BARTENDER  ?   A poem on misuse of human free will :  बदनाम क्यों साक़ी है ?

FOR THOSE WHO KNOW HINDI : 


बदनाम क्यों साक़ी है ? 


जो दिल से नहीं जानते हमें, वे मोहब्बत कैसे करेंगे ?
एक अज़नबी से इज़हार-ए -इश्क़ वे क्यों और कैसे करेंगे ?


आशिकों की क्या कहें हम, यहाँ तो इश्क ही नकली और झूठा है,
नादान-से हम खुले दिल से आये बाज़ारों में,जहाँ सब ने सब को लूटा है !


जो खुद से भी अज़नबी हैं, वे जानेंगे भी तो हमें कैसे,
बावरे तो हम थे जो हमने मान लिया, वे प्यार हमसे करेंगे !


अब तय कर लिया है हमने कि तय करेंगे इश्क से रूहानियत का सफ़र,
फसादों से भरी इस दुनिया में, अब यही जायज़ है, यही तो छूटा है !


सांसों की उथल-पुथल तो दरअसल अरमानों की कश्मकश थी,
चलते-चलते थक गयी सांस, अरमान बस एक बाकी है -


मिलेंगे उससे तो पूछेंगे, खुद अच्छे-सच्चे हो, दुनिया क्यों झूठी बनाई,
सवालों से भरी इस ज़िन्दगी में, पूछने को अब सवाल एक ही बाक़ी है !


पर दिल में धीमे-से उठती यह आवाज़, जो जवाब उधर से आता है,
'पूछो मुझसे नहीं खुद से ही यह सवाल, कि किसने कहानी बिगाड़ी है -


'मैंने तो प्यार से इमरत, आब-ए -हैयात बनाई थी तुम्हारे लिए
ज़िद करके माँगी तुमने ज़हरीली शराब, क्यों बदनाम अब साक़ी है' ?



- हंस धोलकिया